संसद में गरजे सांसद बेनीवाल – राजस्थान के लिए की विशेष राहत पैकेज की मांग

लोकसभा में नागौर : केंद्रीय बजट की चर्चा पर लोकसभा में बोले रालोपा सांसद हनुमान बेनीवाल, बोले – युवाओं व किसानों को मजबूत करने से ही बढ़ेगा देश

नागौर. लोकसभा में सोमवार को हुई केंद्रीय बजट की चर्चा में भाग लेते हुए नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने बजट पर बोलते हुए कई मुद्दों को सदन में रखा। उन्होंने कहा कि केंद्रीय बजट में हर तबके का ध्यान रखा गया और केंद्र का बजट देश की जनता के जीवन को आसान बनाने के लिए एक आकांक्षाओं से भरा है। सांसद ने कहा कि डीबीटी अपनाकर देश की सरकार ने बहुत बड़ा काम किया, क्योंकि इससे केंद्र का पूरा धन लाभान्वित के खाते में जाता है।
सांसद बेनीवाल ने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है, इसके बावजूद जीडीपी में कृषि की भागीदारी लगातार गिरती जा रही है, यह हम सबके लिए चिंता का विषय है। उन्होंने मोदी सरकार के बजट में किसान की आय को दोगुना करने के लिए जो प्रतिबद्धता जताई है, वो खुशी का विषय है। उन्होंने कहा कि इस प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार को सबसे पहले एमएसपी पर स्वामीनाथन आयोग की दी गई सम्पूर्ण सिफारिशों को लागू करना होगा। सांसद ने कहा कि किसान और जवान मजबूत होगा तभी देश मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र द्वारा प्रत्येक तहसील पर खाद्य भंडारण के लिए जो गोदाम बनाए गए, उसमें भी कुछ नियमों में संशोधन करने की जरूरत है, ताकि किसानों को उनकी वित्तीय आवश्यकताओं की पूर्ति भंडारण से पूरी हो सके।

किसान कर्ज माफी की मांग को दोहराया

बेनीवाल ने लोकसभा में किसान कर्ज माफी की मांग को दोहराते हुए कहा कि किसान देश की रीढ़ की हड्डी है, इसलिए हम सबको किसानों की चिंता करने की जरूरत है। उन्होंने सदन में नागौर की विश्व प्रसिद्ध पान मैथी का जिक्र करते हुए कहा कि इसके निश्चित विक्रय मूल्य का निर्धारण होना चाहिए, ताकि किसान को इसका पूरा लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि जब सरकार व्यापारियों का तीन लाख करोड़ का कर्ज माफ कर सकती है तो किसानों की सम्पूर्ण कर्ज माफी के लिए भी केंद्र सरकार को एक बार ठोस कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने पुन: टिड्डी से हुए नुकसान की तरफ सरकार का ध्यान आकर्षित करते हुए टिड्डी से हुई आपदा को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की।

खाली पदों को भरने की आवश्यकता

सांसद बेनीवाल ने रोजगार के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि रोजगार के स्थाई और ठोस समाधान निकालने के लिए बड़े प्रयास करने की आवश्यकता है। उन्होंने केंद्र में खाली पड़े पदों का जिक्र करते हुए कहा कि केंद्र के विभिन्न महकमों में 6 लाख 83 हजार खाली पड़े पदों को शीघ्र भरने की जरूरत है। सांसद ने कहा कि सडक़ सहित बुनियादी ढांचे के विकास के लिए अवाप्त की गई किसानों की जमीन का उचित मुआवजा देना अत्यंत आवश्यक है। सांसद ने राजस्थान की विषम भौगोलिक परिस्थितियों का उदाहरण देते हुए कहा कि राजस्थान में चंबल का बीहड़, थार का मरुस्थल, लगातार पड़ता अकाल, गिरते भूजल के स्तर को देखते हुए अगर विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिया जा सकता तो विशेष पैकेज राजस्थान को देने की जरूरत है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.