हनुमान बेनीवाल ने पशुपालकों से किया वादा, ट्रेन चलाने की जगाई उम्मीद

नागौर जिला मुख्यालय पर चल रहे राज्य स्तरीय रामदेव पशु मेले में बाहरी राज्यों से आने वाले व्यापारियों को वापस लौटते समय रास्ते किसी प्रकार की परेशानी न हो तथा पशुओं का परिवहन भी आसानी से कम खर्च पर हो, इसके लिए पूर्व की भांति पशु ट्रेन चलाने की उम्मीद एक बार फिर जगी है। इस बार यह उम्मीद नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ( Hanuman Beniwal ) ने जगाई है…

नागौर। नागौर जिला मुख्यालय पर चल रहे राज्य स्तरीय रामदेव पशु मेले में बाहरी राज्यों से आने वाले व्यापारियों को वापस लौटते समय रास्ते किसी प्रकार की परेशानी न हो तथा पशुओं का परिवहन भी आसानी से कम खर्च पर हो, इसके लिए पूर्व की भांति पशु ट्रेन चलाने की उम्मीद एक बार फिर जगी है। इस बार यह उम्मीद नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ( Hanuman Beniwal ) ने जगाई है। सांसद बेनीवाल ने सोमवार को पशु मेले का निरीक्षण कर किसान व व्यापारियों संवाद किया तथा सडक़ मार्ग से पशु परिवहन के दौरान आने वाली समस्याओं को देखते हुए उन्होंने रेल मंत्री से बात कर बैलों के परिवहन के लिए ट्रेन चलाने का आश्वासन दिया।

hanuman beniwal

गौरतलब है कि रामदेव पशु मेले से वर्षों पहले ट्रेन चलती थी, इसके लिए मेला मैदान में अलग से स्टेशन व यार्ड भी बना हुआ है। बीच में ट्रेन बंद होने से मेले का दायरा सिमटने लगा, जिस पर चार साल पहले तत्कालीन सांसद सीआर चौधरी ने ट्रेन चलाने का वादा किया और काफी प्रयास भी किए, लेकिन सारी प्रक्रिया पूरी होने के बावजूद ट्रेन को हरी झंडी नहीं मिल पाई, जिससे पशुपालक व व्यापारी निराश हो गए। अब एक बार फिर सांसद बेनीवाल ने ट्रेन चलाने का वादा पशुपालकों से किया है। सोमवार को निरीक्षण के दौरान सांसद ने तीन वर्ष तक के बछड़ों के परिवहन पर लगी रोक को हटाने के लिए प्रयास करने की बात भी कही है।

खींवसर विधायक व अधिकारी भी रहे साथ
सोमवार को सांसद बेनीवाल के साथ मेले का निरीक्षण करने के दौरान अतिरिक्त जिला कलक्टर मनोज कुमार, पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. सीआर मेहरड़ा तथा खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल भी रहे। सांसद ने मेले में दूरदराज से आए किसानों, पशुपालकों एवं व्यापारियों से संवाद किया। सांसद ने अधिकारियों के साथ पूरे मेले का पैदल निरीक्षण करके पशुपालकों को पानी, बिजली सहित अन्य समस्याओं से जुड़े मुद्दे पर चर्चा करके मौके पर ही निस्तारण के निर्देश दिए। सांसद ने कहा कि मेले हमारी सांस्कृतिक विरासत है और मेलों का संरक्षण करना अत्यंत आवश्यक है। बेनीवाल ने मौके पर मौजूद एडीएम से कहा कि नागौर और परबतसर सहित जिले के तमाम पशु मेलों के संरक्षण के लिए एक ड्राफ्ट तैयार करके मेले शुरू होने से पहले ही पानी, बिजली जैसी तमाम सुविधाओं की सुनिश्चितता करें।

नागौरी बैल की नस्ल विश्व भर में प्रसिद्ध
सांसद ने कहा कि एक समय में नागौर के बैलों को देश भर के किसान खरीद कर लेकर जाते थे, क्योंकि नागौर के बैलों की नश्ल विश्व भर में प्रसिद्ध है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.